आपके माइक्रो-बिज़नॆस के लिए फायदेमंद और असरदार ऐडवरटाइज़िंग हॅक्स

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on linkedin
professional online invoicing

माइक्रो-बिज़नॆस के लिए ऐडवरटाइज़िंग और प्रोमोशन बहुत ही ज़रूरी हो गया है। वह इसलिए क्योंकी आप बिज़नॆस में सबसे आगे रहना चाहते हैं और मार्केट में लंबे समय तक टिके रहना चाहते हैं। आज, सबसे ज्यादा वही चलता है जो कस्टमर की नज़रों के सामने सबसे ज्यादा रहता है, और सही समय पर सही ऑडियन्स को टार्गॆट करता है। हालाँकि ऐसा कोई पक्का फॉर्मूला नहीं है कि कौन-सा काम करेगा और कौन-सा नहीं, लेकिन सही कस्टमर को टार्गेट करने के लिए अलग-अलग तरीके हैं जिन्हें माइक्रो एस.एम.ई. अपना सकते हैं। आजकल जो सबसे ज्यादा काम करता है वो है दोनों ऑनलाइन और डिजिटल प्रोमोश्न, साथ ही आम ऐडवरटाइज़िंग का इस्तेमाल करना।

सो, अपनी मौजूदगी दिखाने के लिए दोनों ही प्लेटफार्म अपनाइए!

इसका गुरू-मंत्र है कि कस्टमर की नज़रों में तब आना जब वह उस प्रोडक्ट या सेवा को ढ़ूढ़ रहा होता है जो आपके पास है।

माइक्रो एस.एम.ई. ऐडवरटाइज़िंग और प्रोमोशन के लिए कई हॅक्स अपना सकते हैं। माइक्रो एस.एम.ई. कंपनियों के पास ऐडवरटाइज़िंग और प्रोमोशन के लिए बहुत कम बजट होता है, और उन्हें बिज़नॆस को चलाते रहने के लिए तुरंत कस्टमर चाहिए होते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए नीचे कुछ उपाय दिए गए हैं।

  1. अपने आस-पास के इलाके पर ध्यान दीजिए: अपने अड़ोस-पड़ोस के लोगों की नज़रों में आइए।

    -अपने अड़ोस-पड़ोस में रहनेवाले लोगों में फ़्लायर और लीफलॆट्स बाँटिए जो आगे जाकर आपके कस्टमर बन सकते हैं।

    -ख़ासकर शनिवार और रविवार के अखबार के अंदर लीफलॆट डालना, बहुत सारे लोगों तक पहुँचने का बहुत ही असरदार तरीका है।

    -होर्डिंग्स और बैनर: इन्हें शहर के ख़ास जगहों पर लगाने से सही टार्गेट ऑडियन्स तक पहुँचने में मदद मिल सकती है। ये उन लोगों की नज़रों में आने के लिए बहुत असरदार है, जो आपके बिज़नॆस में दिलचस्पी लेते हैं।

    -आस-पास में होनेवाले कार्यक्रमों में मौजूदगी- जैसे मेले, टॅलॆंट शो, स्कूल के स्पोर्ट्स कार्यक्रम जिन में बाहर के स्पॉन्सरों को आने की अनुमती है, त्योहारों के दौरान प्रोमोशन- इन सभी ज़रियों से ज्यादा-से-ज्यादा लोगों तक पहुँचा जा सकता है।

    -हाउसिंग सोसाइटी के कार्यक्रमों में हिस्सा लेना- बड़े-बड़े हाउसिंग सोसाइटियों में पूरे साल के दौरान कई कार्यक्रम आयोजित होते रहते हैं, चाहे वो त्योहार हो या ख़ास इवेंट्स, जैसे कि म्यूसिकल नाइट्स और स्पोर्ट्स कार्यक्रम।

    -मॉल्स में प्रोमोशन- कॅप्टिव ऑडियन्स तक पहुँचने में मदद कर सकता है।

    -वहाँ पहुँचिए जहाँ आपके पोटेंशियल कस्टमर जमा होते हैं-: उदाहरणudaharan) के लिए: आप स्टूडेंट्स और पेरेंट्स के लिए अपनी टॆनिस एकाडमी को प्रमोट करना चाहते हैं, तो आपको स्कूलों या मॉल्स में अपने प्रमोशनल कार्यक्रम चलाने चाहिए, जहाँ ज्यादा-से-ज्यादा पेरेंट्स जमा होते हैं। इससे आपका बिज़नॆस काफी तरक्की करेगा।

    – “नो पार्किंग बोर्ड” और दूसरे साइनेजों को स्पॉनसर करना एक असरदार लेकिन कम खर्चीला तरीका है जिससे कि आप अपने पोटेंशियल कस्टमर तक पहुँच सकते हैं।

  2. साइन-अप और फीडबैक- प्रोमोशनल कार्यक्रमों के दौरान अपनी सेवाओं के लिए साइन-अप करने से कस्टमर पाने में मदद मिल सकती है। मौजूदा कस्टमर को बनाए रखने के लिए, साथ ही क्वालिटी में लगातार सुधार करने के लिए, मौजूदा कस्टमर से फीडबैक लेना बहुत ज़रूरी है।
  3. माइक्रो-एस.एम.ई. के लिए ऑनलाइन ऐडवरटाइज़िंग और डिजिटल का इस्तेमाल: अपनी सेवाओं और प्रोडक्ट्स की ऐडवरटाइज़िंग और प्रोमोशन के लिए अलग-अलग डिजिटल तरीके अपनाइए। ज्यादा-से-ज्यादा लोगों तक पहुँचने में फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्वीटर जैसे सोशल मीडिया प्लैटफॉम आपकी मदद कर सकते हैं। ये प्लैटफॉर्म तुरंत लोगों का ध्यान खींचते हैं और हो सकता है कि आपके बिज़नॆस को शायद कुछ कैपटिव ऑडियन्स और शुरुआती कस्टमर भी मिल जाएँ।
  4. – बिज़नॆस पेज लिस्टिंग्स- लोकल बिज़नॆस के सभी पेज और साइट पर अपने बिज़नॆस का नाम डालिए। कई पेज और साइट होते हैं, लेकिन सिर्फ उन्हें चुनिए जो आपके लिए सही हों और जिन्हें काफी लोग विज़िट करते हैं।

उपर दिए गए तरीके सिंपल हैं और इनमें आपका ज्यादा वक्त और पैसा नहीं लगता है। ये ऐसे छोटे और माइक्रो एस.एम.ई. के लिए खासकर फायदेमंद हैं जो बिज़नॆस चलाने के साथ-साथ अपनी पहचान भी बनाना चाहते हैं। इन्हें अलग-अलग कॉम्बिनेशन में इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकी आपको पता नहीं कौन-सा तरीका काम कर जाए!!!!

Leave a Replay

Sign up for our Newsletter

We publish new content for SME’s, Startups & Businesses. To receive updates about new content click subscribe.

Trusted By Thousands of Businesses Across India